Wednesday, April 17, 2019

पंक्तिका छंद "देश की हालत"

स्वार्थ में सनी राजनीति है।
वोट नोट से आज प्रीति है।
देश खा रहे हैं सभी यहाँ।
दौर लूट का देखिये जहाँ।।

त्रस्त आज आतंक से सभी।
देश की न थी ये दशा कभी।
देखिये जहाँ रक्त-धार है।
लोकतंत्र भी शर्मसार है।।

शील नारियाँ हैं लुटा रही।
लाज से मरी जा रही मही।
अर्थ पाँव पे जो टिकी हुई।
न्याय की व्यवस्था बिकी हुई।।

धूर्त चोर नेता यहाँ हुये।
कीमतें सभी आसमाँ छुये।।
देश की दशा है बड़ी बुरी।
वृत्ति छा गयी आज आसुरी।।
===============
लक्षण छंद:-

"रायजाग" ये वर्ण राख के।
छंद 'पंक्तिका' धीर राचते।।

"रायजाग" = रगण यगण जगण गुरु
(212  122  121  2) = 10 वर्ण। चार चरण दो दो समतुकांत।

एक उदाहरण देखें:-
देश का कभी स्वर्ग जो रहा।
काशमीर वो आज रो रहा।।
जोर आज आतंक का यहाँ।
खून से सनी भू जहाँ तहाँ।।
**********************

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
17-06-17

No comments:

Post a Comment