Friday, September 25, 2020

विविध मुक्तक -3

हाल अब कैसा हुआ बतलाएँ क्या,
इस फटी तक़दीर का दिखलाएँ क्या,
तोड़ के रख दी कमर मँहगाई ने,
क्या खिलाएँ और खुद हम खाएँ क्या।

2122*2  212
********

हाउडी मोदी की तरंग में:-

विश्व मोदी को कह हाउडी पूछता,
और इमरान बन राउडी डोलता,
तय है पी ओ के का मिलना कश्मीर में,
शोर ये जग में हो लाउडी गूँजता।

212*4
********

आज का सूरज बड़ा है,
हो प्रखर नभ में अड़ा है,
पर बहुत ही क्षीण मानव,
कूप में तम के पड़ा है।

2122*2
*******

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
06-10-19

पुछल्लेदार मुक्तक "खुदगर्ज़ी नेता"

सत्ता जिनको मिल जाती है मद में वे इतराते हैं,
गिरगिट जैसे रंग बदलकर बेगाने बन जाते हैं,
खुद को देखें या फिर दल को या केवल ही अपनों को,
अनदेखी जनता की कर वे तोड़ें उनके सपनों को।

समझें जनता को वे ना भोली,
झूठे वादों की देवें ना गोली,
ये किसी की न है हमजोली,
'बासु' नेताओं आँखें खोलो,
नब्ज़ जनता की पहले टटोलो।।

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
22-04-18


Sunday, September 20, 2020

गुर्वा (पीड़ा)

अत्याचार देख भागें,

शांति शांति चिल्लाते,

छद्म छोड़ अब तो जागें।

***


पीड़ा सारी कहता,

नीर नयन से बहता,

अंधी दुनिया हँसती।

***


बाढ कहीं तो सूखा है,

सिसक रहे वन उजड़े,

मनुज लोभ का भूखा है,

***


बासुदेव अग्रवाल 'नमन'

तिनसुकिया

28-04-20

Wednesday, September 16, 2020

शक्ति छंद (फकीरी)

122  122  122  12

फकीरी हमारे हृदय में खिली।
बड़ी मस्त मौला तबीयत मिली।।
कहाँ हम पड़ें और किस हाल में।
किसे फ़िक्र हम मुक्त हर चाल में।।

वृषभ से रहें नित्य उन्मुक्त हम।
जहाँ मन, बसेरा वहीं जाय जम।।
बना हाथ तकिया टिका माथ लें।
उड़ानें भरें नींद को साथ लें।।

मिले जो उसीमें गुजारा करें।
मिले कुछ न भी तो न आहें भरें।।
कमंडल लिये हाथ मेंं हम चलें।
इसी के सहारे सदा हम पलें।

जगत से न संबंध कुछ भी रखें।
स्वयं में रमे स्वाद सारे चखें।।
सुधा सम समझ के गरल सब पिएँ।
रखें आस भगवान की बस जिएँ।।

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
12-02-19

ग्रंथि छंद (गीतिका, देश का ऊँचा सदा, परचम रखें)

2122 212, 2212

देश का ऊँचा सदा, परचम रखें,
विश्व भर में देश-छवि, रवि सम रखें।

मातृ-भू सर्वोच्च है, ये भाव रख,
देश-हित में प्राण दें, दमखम रखें।

विश्व-गुरु भारत रहा, बन कर कभी,
देश फिर जग-गुरु बने, उप-क्रम रखें।

देश का गौरव सदा, अक्षुण्ण रख,
भारती के मान को, चम-चम रखें।

आँख हम पर उठ सके, रिपु की नहीं,
आत्मगौरव और बल, विक्रम रखें।

सर उठा कर हम जियें, हो कर निडर,
मूल से रिपु-नाश का, उद्यम रखें।

रोटियाँ सब को मिलेंं, छत भी मिले,
दीन जन की पीड़ लख, दृग नम रखें।

हम गरीबी को हटा, संपन्न हों,
भाव ये सारे 'नमन', उत्तम रखें।

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
09-08-20

Wednesday, September 9, 2020

किशोर मुक्तक (कोरोना)

भारी रोग निसड़्लो आयो, कोरोना,
सगलै जग मैं रुदन मचायो, कोरोना,
मिनखाँ नै मिनखाँ सै न्यारा, यो कीन्यो,
कुचमादी चीन्याँ रो जायो, कोरोना।

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
30-08-20

दोहे (श्राद्ध-पक्ष)

श्राद्ध पक्ष में दें सभी, पुरखों को सम्मान।
वंदन पितरों का करें, उनका धर हम ध्यान।।

रीत सनातन श्राद्ध है, इस पर हो अभिमान।
श्रद्धा पूरित भाव रख, मानें सभी विधान।।

द्विज भोजन बलिवैश्व से, करें पितर संतुष्ट।
उनके आशीर्वाद से, होते हैं हम पुष्ट।।

पितर लोक में जो बसे, कर असीम उपकार।
बन कृतज्ञ उनका सदा, प्रकट करें आभार।।

मिलता हमें सदा रहे, पितरों का वरदान।
भरें रहे भंडार सब, हों हम आयुष्मान।।

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
01-09-20

मधुमती छंद

मधुवन महके।
शुक पिक चहके।।
जन-मन सरसे।
मधु रस बरसे।।

ब्रज-रज उजली।
कलि कलि मचली।।
गलि गलि सुर है।
गिरधर उर है।।

नयन सजल हैं।
वयन विकल हैं।।
हृदय उमड़ता।
मति मँह जड़ता।।

अति अघकर मैं।
तव पग पर मैं।।
प्रभु पसरत हूँ।
'नमन' करत हूँ।
===========

लक्षण छंद:-

"ननग" गणन की।
मधुर 'मधुमती'।।

"ननग" :- 111 111 2 (नगण नगण गुरु)
चार चरण, दो-दो चरण समतुकांत
*************

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
29-08-20

Saturday, September 5, 2020

ग़ज़ल (जगमगाते दियों से मही खिल उठी)

बह्र:- 212*4

जगमगाते दियों से मही खिल उठी,
शह्र हो गाँव हो हर गली खिल उठी।

लायी खुशियाँ ये दीपावली झोली भर,
आज चेह्रों पे सब के हँसी खिल उठी।

आप देखो जिधर नव उमंगें उधर,
हर महल खिल उठा झोंपड़ी खिल उठी।

सुर्खियाँ सब के गालों पे ऐसी लगे,
कुमकुमे हँस दिये रोशनी खिल उठी।

आज छोटे बड़े के मिटे भेद सब,
सबके मन में खुशी की कली खिल उठी।

नन्हे नन्हे से हाथों में भी हर तरफ,
रोशनी से भरी फुलझड़ी खिल उठी।

दीप उत्सव पे ग़ज़लों की रौनक 'नमन'
ब्लॉग में दीप की ज्योत सी खिल उठी।

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
08-10-2017

ग़ज़ल (नहीं जो चाहते रिश्ते)

बह्र:- 1222 1222 1222 1222

नहीं जो चाहते रिश्ते अदावत और हो जाती,
न होते अम्न के कायल सियासत और हो जाती,

दिखाकर बुज़दिली हरदम चुभाता पीठ में खंजर,
अगर तू बाज़ आ जाता मोहब्बत और हो जाती।

घिनौनी हरक़तें करना तेरी तो है सदा आदत,
बदल जाती अगर आदत तो फ़ितरत और हो जाती।

जो दहशतगर्द हैं पाले यहाँ दहशत वो फैलाते, 
इन्हें बस में जो तू रखता शराफ़त और हो जाती।

नहीं कश्मीर तेरा था नहीं होगा कभी आगे,
न जाते पास 'हाकिम' के शिकायत और हो जाती।

नहीं औकात कुछ तेरी दिखाता आँख फिर भी तू,
पड़ा जो सामने होता ज़लालत और हो जाती।

मसीहा कुछ बड़े आका नचाते तुझको बन रहबर,
मिलाता हाथ हमसे तो ये शुहरत और हो जाती।

नहीं पाली कभी हमने तमन्ना जंग की दिल में,
अगर तुझ सा मिले दुश्मन तो हसरत और हो जाती।

तमन्ना तू ने पैदा की कि दो दो हाथ हो जाये,
दिखे हालात जब ऐसे तो हिम्मत और हो जाती।

दिलों में खाइयाँ गहरी वजूदों की ओ मजहब की,
इन्हें भरता अगर तू मिल हक़ीक़त और हो जाती।

बढ़ाने देश का गौरव 'नमन', सजदा करें सब मिल,
खुदा की इस वतन पर ये इनायत और हो जाती।

(फ़ितरत=स्वभाव, रहबर=पथ प्रदर्शक, अदावत=लड़ाई, ज़लालत=तिरस्कार या अपमान)

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
23-09-2016

ग़ज़ल (इरादे इधर हैं उबलते हुए)

बह्र: 122 122 122 12

इरादे इधर हैं उबलते हुए,
उधर सारे दुश्मन दहलते हुए।

नये जोश में हम उछलते हुए,
चलेंगे ज़माना बदलते हुए।

हुआ पांच सदियों का वनवास ख़त्म,
विरोधी दिखे हाथ मलते हुए।

अगर देख सकते जरा देख लो,
हमारे भी अरमाँ मचलते हुए।

रहे जो सिखाते सदाकत हमें,
मिले वो जबाँ से फिसलते हुए।

न इतना झुको देख पाओ नहीं,
रकीबों के पर सब निकलते हुए।

बढेंगे 'नमन' सुन लें गद्दार सब,
तुम्हें पाँव से हम कुचलते हुए।

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
10-08-20