Tuesday, March 26, 2019

नील छंद "विरहणी"

वो मन-भावन प्रीत लगा कर छोड़ चले।
खावन दौड़त रात भयानक आग जले।।
पावन सावन बीत गया अब हाय सखी।
आवन की धुन में उन के मन धीर रखी।।

वर्षण स्वाति लखै जिमि चातक धीर धरे।
त्यों मन व्याकुल साजन आ कब पीर हरे।।
आकुल भू लख अंबर से जल धार बहे।
आतुर ये मन क्यों पिय का वनवास सहे।।

मोर चकोर अकारण शोर मचावत है।
बागन की छवि जी अब और जलावत है।।
ये बरषा विरहानल को भड़कावत है।
गीत नये उनके मन को न सुहावत है।।

कोयल कूक लगे अब वायस काँव मुझे।
पावस के इस मौसम से नहिं प्यास बुझे।।
और बचा कितना अब शेष बिछोह पिया।
नेह-तृषा अब शांत करो लगता न जिया।।
================
लक्षण छंद:-

"भा" गण पांच रखें इक साथ व "गा" तब दें।
'नील' सुछंदजु  षोडस आखर की रच लें।।

"भा" गण पांच रखें इक साथ व "गा"= 5 भगण+गुरु

(211×5+गुरु) = 16वर्ण
चार चरण, दो दो या चारों चरण समतुकांत।
********************

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
9-1-17

धुनी छंद "फाग रंग"

फागुन सुहावना।
मौसम लुभावना।
चंग बजती जहाँ।
रंग उड़ते वहाँ।

बालक गले लगे।
प्रीत रस हैं पगे।
नार नर दोउ ही।
नाँय कम कोउ ही।।

राग थिरकात है।
ताल ठुमकात है।
झूम सब नाचते।
मोद मन मानते।।

धर्म अरु जात को।
भूल सब बात को।
फाग रस झूमते।
एक सँग खेलते।।
===========
लक्षण छंद:-

"भाजग" रखें  गुनी।
'छंद' रचते 'धुनी'।।

"भाजग" = भगण  जगण  गुरु
211 121 2 = 7 वर्ण।
चार चरण दो दो समतुकांत।
***************

बासुदेव अग्रवाल
तिनसुकिया
5-3-17

धार छंद "आज की दशा"

अत्याचार।
भ्रष्टाचार।
का है जोर।
चारों ओर।।

सारे लोग।
झेलें रोग।
हों लाचार।
खाएँ मार।।

नेता नीच।
आँखें मीच।
फैला कीच।
राहों बीच।।

पूँजी जोड़।
माथा मोड़।
भागे छोड़।
नाता तोड़।।

आशा नाँहि।
लोगों माँहि।
खोटे जोग।
का है योग।।

सारे आज।
खोये लाज।
ना है रोध।
कोई बोध।।
========
लक्षण छंद:-

"माला" राख।
पाओ 'धार'।।

"माला" = मगण लघु
222 1 = 4 वर्ण
4 चरण, 2-2 या चारों चरण समतुकांत।
********************

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
10-03-2017

दोधक छंद "आत्म मंथन"

मन्थन रोज करो सब भाई।
दोष दिखे सब ऊपर आई।
जो मन माहिं भरा विष भारी।
आत्मिक मन्थन देत उघारी।।

खोट विकार मिले यदि कोई।
जान हलाहल है विष सोई।
शुद्ध विवेचन हो तब ता का।
सोच निवारण हो फिर वा का।।

भीतर झाँक जरा अपने में।
क्यों रहते जग को लखने में।।
ये मन घोर विकार भरा है।
किंतु नहीं परवाह जरा है।।

मत्सर, द्वेष रखो न किसी से।
निर्मल भाव रखो सब ही से।
दोष बचे उर माहिं न काऊ।
सात्विक होवत गात, सुभाऊ।।
==================
लक्षण छंद:-

"भाभभुगाग" इकादश वर्णा।
देवत 'दोधक' छंद सुपर्णा।।

"भाभभुगाग" = भगण भगण भगण गुरु गुरु
211  211  211  22 = 11 वर्ण
चार चरण, दो दो सम तुकांत।
************************

बासुदेव अग्रवाल 'नमन,
तिनसुकिया
28-11-2016

तोटक छंद "विरह"

सब ओर छटा मनभावन है।
अति मौसम आज सुहावन है।।
चहुँ ओर नये सब रंग सजे।
दृग देख उन्हें सकुचाय लजे।।

सखि आज पिया मन माँहि बसे।
सब आतुर होयहु अंग लसे।।
कछु सोच उपाय करो सखिया।
पिय से किस भी विध हो बतिया।।

मन मोर बड़ा अकुलाय रहा।
विरहा अब और न जाय सहा।।
तन निश्चल सा बस श्वांस चले।
किस भी विध ये अब ना बहले।।

जलती यह शीत बयार लगे।
मचले  मचले कुछ भाव जगे।।
बदली नभ की न जरा बदली।
पर मैं बदली अब हो पगली।।
=============
लक्षण छंद:-

जब द्वादश वर्ण "ससासस" हो।
तब 'तोटक' पावन छंदस हो।।

"ससासस" = चार सगण
112  112  112  112 = 12 वर्ण
******************

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
1-07-17

Friday, March 22, 2019

तिलका छंद "युद्ध"

गज अश्व सजे।
रण-भेरि बजे।।
जब स्यंद हिले।
सब वीर खिले।।

ध्वज को फहरा।
रथ रौंद धरा।।
बढ़ते जब ही।
सिमटे सब ही।।

बरछे गरजे।
सब ही लरजे।।
जब बाण चले।
धरणी दहले।।

नभ नाद छुवा।
रण घोर हुवा।
रज खूब उड़े।
घन ज्यों उमड़े।।

तलवार चली।
धरती बदली।।
लहु धार बही।
भइ लाल मही।।

कट मुंड गए।
सब त्रस्त भए।।
धड़ नाच रहे।
अब हाथ गहे।।

शिव तांडव सा।
खलु दानव सा।।
यह युद्ध चला।
सब ही बदला।।

जब शाम ढ़ली।
चँडिका हँस ली।।
यह युद्ध रुका।
सब जाय चुका।।
**********
लक्षण छंद:-

"सस" वर्ण धरे।
'तिलका' उभरे।।
===========
"सस" = सगण सगण
(112 112),
दो-दो चरण तुकांत (6वर्ण प्रति चरण )
***************
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
27-01-19

चामर छन्द "मुरलीधर छवि"

गोप-नार संग नन्दलालजू बिराजते।
मोर पंख माथ पीत वस्त्र गात साजते।
रास के सुरम्य गीत गौ रँभा रँभा कहे।
कोकिला मयूर कीर कूक गान गा रहे।।

श्याम पैर गूँथ के कदंब के तले खड़े।
नील आभ रत्न बाहु-बंद में कई जड़े।।
काछनी मृगेन्द्र लंक में लगे लुभावनी।
श्वेत पुष्प माल कंठ में बड़ी सुहावनी।।

शारदीय चन्द्र की प्रशस्त शुभ्र चांदनी।
दिग्दिगन्त में बिखेरती प्रभा प्रभावनी।।
पुष्प भार से लदे निकुंज भूमि छा रहे।
मालती पलाश से लगे वसुंधरा दहे।।

नन्दलाल बाँसुरी रहे बजाय चाव में।
गोपियाँ समस्त आज हैं विभोर भाव में।।
देव यक्ष संग धेनु ग्वाल बाल झूमते।।
'बासुदेव' ये छटा लखे स्वभाग्य चूमते।।
=================
(गुरु लघु ×7)+गुरु = 15 वर्ण
चार चरण दो- दो  या चारों चरण समतुकान्त।
**********************

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
27-12-16

चन्द्रिका छंद "वचन सार"

सुन कर पहले, कथ्य को तोलना।
समझ कर तभी, शब्द को बोलना।।
गुण यह जग में, बात से मान दे।
सरस अमिय का, सर्वदा पान दे।।

मधुरिम कथनी, प्रेम की जीत दे।
कटु वचन वहीं, तोड़ ही प्रीत दे।।
वचन पर चले, साख व्यापार की।
कथन पर टिकी, रीत संसार की।।

मुख अगर खुले, सत्य वाणी कहें।
असत वचन से, दूर कोसों रहें।।
जग-मन हरता, सत्यवादी सदा।
यह बहुत बड़ी, मानवी संपदा।।

छल वचन करे, भग्न विश्वास को।
कपट हृदय तो, प्राप्त हो नाश को।।
व्रण कटु वच का, ठीक होता नहीं।
मधु बयन जहाँ, हर्ष सारा वहीं।।
==============
लक्षण छंद:-

"ननततु अरु गा", 'चन्द्रिका' राचते।
यति सत अरु छै, छंद को साजते।।

"ननततु अरु गा" = नगण नगण तगण तगण गुरु
(111 111 2   21 221  2)
दो दो चरण समतुकांत, 7, 6 यति।
************************

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
28-01-18

चंचला छंद "बसन्त वर्णन"

छा गयी सुहावनी बसन्त की छटा अपार।
झूम के बसन्त की तरंग में खिली बहार।।
कूँज फूल से भरे तड़ाग में खिले सरोज।
पुष्प सेज को सजा किसे बुला रहा मनोज।।

धार पीत चूनड़ी समस्त क्षेत्र हैं विभोर।
झूमते बयार संग ज्यों समुद्र में हिलोर।।
यूँ लगे कि मस्त वायु छेड़ घूँघटा उठाय।
भू नवीन व्याहता समान ग्रीव को झुकाय।।

कोयली सुना रही सुरम्य गीत कूक कूक।
प्रेम-दग्ध नार में रही उठाय मूक हूक।।
बैंगनी, गुलाब, लाल यूँ भए पलाश आज।
आ गया बसन्त फाग खेलने सजाय साज।।

आम्र वृक्ष स्वर्ण बौर से लदे झुके लजाय।
अप्रतीम ये बसन्त की छटा रही लुभाय।।
हास का विलास का सुरम्य भाव दे बसन्त।
काव्य-विज्ञ को प्रदान कल्पना करे अनन्त।।
===============
लक्षण छंद:-

"राजराजराल" वर्ण षोडसी रखो सजाय।
'चंचला' सुछंद राच आप लें हमें लुभाय।।
===============

"राजराजराल" = रगण जगण रगण जगण रगण लघु
21×8 = 16 वर्ण प्रत्येक चरण में। 4 चरण, 2-2 चरण समतुकांत।
*******************

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
27-12-2016

घनश्याम छंद "दाम्पत्य-मन्त्र"

विवाह पवित्र, बन्धन है पर बोझ नहीं।
रहें यदि निष्ठ, तो सुख के सब स्वाद यहीं।।
चलूँ नित साथ, हाथ मिला कर प्रीतम से।
रखूँ मन आस, काम करूँ सब संयम से।।

कभी रहती न, स्वारथ के बस हो कर के।
समर्पण भाव, नित्य रखूँ मन में धर के।।
परंतु सदैव, धार स्वतंत्र विचार रहूँ।
जरा नहिं धौंस, दर्प भरा अधिकार सहूँ।।

सजा घर द्वार, रोज पका मधु व्यंजन मैं।
लखूँ फिर बाट, नैन लगा कर अंजन मैं।।
सदा मन माँहि, प्रीत सजाय असीम रखूँ।
यही रख मन्त्र, मैं रस धार सदैव चखूँ।।

बसा नव आस, जीवन के सुख भोग रही।
निरर्थक स्वप्न, की भ्रम-डोर कभी न गही।।
करूँ नहिं रार, साजन का मन जीत जिऊँ।
यही सब धार, जीवन की सुख-धार पिऊँ।।
==================
लक्षण छंद:-

"जजाभभभाग", में यति छै, दश वर्ण रखो।
रचो 'घनश्याम', छंद अतीव ललाम चखो।।

 "जजाभभभाग" = जगण जगण भगण भगण भगण गुरु]
121  121  211   211   211  2 = 16 वर्ण

यति 6,10 वर्णों पर, 4 चरण, 2-2 चरण समतुकांत।
***********************

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
17-4-17

Saturday, March 16, 2019

चौपाई छंद "कलियुगी शतानन"

सिया राम चरणों में वंदन। मेटो अब कलयुग का क्रंदन।।
जब जब बढ़े पाप का भारा। तब तब प्रभु तुम ले अवतारा।।

त्रेता माहि भया रिपु भारी। सुर नर मुनि का कष्टनकारी।।
रावण नाम सकल जग जानी। दस शीशों का वह अभिमानी।।

कलयुग माहि जनम पुनि लीन्हा। घोर तपस्या विधि की कीन्हा।।
त्रेता से रावण को चीन्हा। सोच विचारि ब्रह्म वर दीन्हा।।

चार माथ का संकट भारी। विधि जाने कितना दुखकारी।।
ब्रह्मा चतुराई अति कीन्ही।वैसी विपदा वर में दीन्ही।।

जस जस अत्याचार बढ़ाये। त्यों त्यों वह नव मस्तक पाये।।
शत शीशों तक वर न रुकेगा। धर्म करेगा तब ही थमेगा।।

वर का मर्म न समझा पापी। आया मोद मना संतापी।।
पा अद्भुत वर विकट निशाचर। पातक घोर करे निशि वासर।।

रावण ने फैलाई माया। सूक्ष्म रूप में घर घर आया।।
भाँत भाँत के भेष बनाकर। पैठे मानव-मन में जा कर।।

जहँ जहँ देखे कमला वासा। सहज लक्ष्य लख फेंके पासा।।
साहूकार सेठ उद्योगी। हुये सभी रावण-वश रोगी।।

वशीभूत स्वारथ के कर के। बुद्धि विवेक ज्ञान को हर के।।
व्याभिचार शोषण फैलाया। ठगी लूट का तांडव छाया।।

ब्रह्मा का वर टरै न टारे। शीश लगे बढ़ने मतवारे।।
त्रेता का जो वीर दशानन। शत शीशों का भया शतानन।।

अधिकारी भक्षक बन बैठे। सत्ता भीतर गहरे पैठे।।
आराजक हो लूट मचाये। जहँ जहँ लिछमी तहँ तहँ छाये।।

शत आनन के चेले चाँटे। संशाधन अपने में बाँटे।।
त्राहि त्राहि सर्वत्र मची है। माया रावण खूब रची है।।

पीड़ित शोषित जन हैं सारे। आहें विकल भरे दुखियारे।।
सुनहु नाथ अब लो अवतारा। करहु देश का तुम उद्धारा।।

इस शत आनन का कर नाशा। मेटो भूमण्डल का त्रासा।।
तुम बिन नाथ कौन जग-त्राता। 'बासुदेव' तव यश नित गाता।।

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
12-07-2016

चौपइया छंद *राखी*

पर्वों में न्यारी, राखी प्यारी, सावन बीतत आई।
करके तैयारी, बहन दुलारी, घर आँगन महकाई।।
पकवान पकाए, फूल सजाए, भेंट अनेकों लाई।
वीरा जब आया, वो बँधवाया, राखी थाल सजाई।।

मन मोद मनाए, बलि बलि जाए, है उमंग नव छाई।
भाई मन भाए, गीत सुनाए, खुशियों में बौराई।।
डाले गलबैयाँ, लेत बलैयाँ, छोटी बहन लडाई।
भाल पे बिंदिया, ओढ़ चुनरिया, जीजी मंगल गाई।।

जब जीवन चहका, बचपन महका, तुम थी तब हमजोली।
संग संग खेली, तुम अलबेली, आए याद ठिठोली।।
पूरा घर चटके, लटकन लटके, आंगन में रंगोली।
रक्षा की साखी, है ये राखी, बहना तुम मुँहबोली।।

हम भारतवासी, हैं बहु भाषी, मन से भेद मिटाएँ।
यह देश हमारा, बड़ा सहारा, इसका मान बढ़ाएँ।।
बहना हर नारी, राखी प्यारी, सबसे ही बँधवाएँ।
त्योहार अनोखा, लागे चोखा, हमसब साथ मनाएँ।।
******************
चौपइया छंद *विधान*

यह  प्रति चरण 30 मात्राओं का सममात्रिक छंद है। 10, 8,12 मात्राओं पर यति। प्रथम व द्वितीय यति में अन्त्यानुप्रास तथा छंद के चारों चरण समतुकांत। प्रत्येक चरणान्त में गुरु (2) आवश्यक है, चरणान्त में दो गुरु होने पर यह छंद मनोहारी हो जाता है।
इस छंद का प्रत्येक यति में मात्रा बाँट निम्न प्रकार है।
प्रथम यति: 2 - 6 - 2
द्वितीय यति: 6 - 2
तृतीय यति: 6 - 2 - 2 - गुरु

(भए प्रगट कृपाला दीन दयाला इसी छंद में है।)
=================

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
18-08-2016

चंचरीक छंद "बाल कृष्ण"

घुटरूवन चलत श्याम, कोटिकहूँ लजत काम,
सब निरखत नयन थाम, शोभा अति प्यारी।
आँगन फैला विशाल, मोहन करते धमाल,
झाँझन की देत ताल, दृश्य मनोहारी।।
लाल देख मगन मात, यशुमति बस हँसत जात,
रोमांचित पूर्ण गात, पुलकित महतारी।
नन्द भी रहे निहार, सुख की बहती बयार,
बरसै यह नित्य धार, जो रस की झारी।।

करधनिया खिसक जात, पग घूँघर बजत जात,
मोर-पखा सर सजात, लागत छवि न्यारी।
माखन मुख में लिपाय, मुरली कर में सजाय,
ठुमकत सबको रिझाय, नटखट सुखकारी।
यह नित का ही उछाव, सब का इस में झुकाव,
ब्रज के संताप दाव, हरते बनवारी।।
सुर नर मुनि नाग देव, सब को ही हर्ष देव,
बरनत कवि 'बासुदेव', महिमा ये सारी।।
****************
चंचरीक छंद *विधान*

इस छंद को हरिप्रिया के नाम से भी जाना जाता है। यह छंद चार चरणों का प्रति चरण 46 मात्राओं का सम मात्रिक दण्डक है। इसका यति विभाजन
(12+12+12+10) =46 है। मात्रा बाँट 12 मात्रिक यति में 2 छक्कल का तथा अंतिम यति में छक्कल+गुरु गुरु है। इस प्रकार मात्रा बाँट 7 छक्कल और अंत गुरु गुरु का है। सूर ने अपने पदों में इस छंद का पुष्कल प्रयोग किया है। तुकांतता दो दो चरण या चारों चरण समतुकांत रखने की है। आंतरिक यति में भी तुकांतता बरती जाय तो अति उत्तम अन्यथा यह नियम नहीं है।

यह छंद चंचरी या चर्चरी छंद से भिन्न है। भानु कवि ने छंद प्रभाकर में "र स ज ज भ र" गणों से युक्त वर्ण वृत्त को चंचरी छंद बताया है जो 26 मात्रिक गीतिका छंद ही है। जिसका प्रारूप निम्न है।
21211  21211  21211  212
केशव कवि ने रामचन्द्रिका में भी इसी विधान के अनुसार चंचरी नाम से अनेक छंद रचे हैं।
===================

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
21-08-17

चौपाई छंद *विधान*

चौपाई 16 मात्रा का बहुत ही व्यापक छंद है। यह चार चरणों का सममात्रिक छंद है। इसके एक चरण में आठ से सोलह वर्ण तक हो सकते हैं। दो दो चरण समतुकांत होते हैं। चरणान्त गुरु या दो लघु से होना आवश्यक है।
चौपाई छंद चौकल और अठकल के मेल से बनती  है। चार चौकल, दो अठकल या एक अठकल और  दो चौकल किसी भी क्रम में हो सकते हैं। समस्त संभावनाएं निम्न हैं।
4-4-4-4, 8-8, 4-4-8, 4-8-4, 8-4-4
कल निर्वहन केवल समकल शब्द द्विकल, चतुष्कल, षटकल से संभव है। अतः एकल या त्रिकल का प्रयोग करें तो उसके तुरन्त बाद विषम कल शब्द रख समकल बना लें। जैसे 3+3 या 3+1 इत्यादि। चौकल और अठकल के नियम निम्न प्रकार हैं जिनका पालन अत्यंत आवश्यक है।
चौकल:- (1) प्रथम मात्रा पर शब्द का समाप्त होना वर्जित है। 'करो न' सही है जबकि 'न करो' गलत है।
(2) चौकल में पूरित जगण जैसे सरोज, महीप, विचार जैसे शब्द वर्जित हैं।

अठकल:- (1) प्रथम और पंचम मात्रा पर शब्द समाप्त होना वर्जित है। 'राम कृपा हो' सही है जबकि 'हो राम कृपा' गलत है क्योंकि राम शब्द पंचम मात्रा पर समाप्त हो रहा है। यह ज्ञातव्य है कि 'हो राम कृपा' में विषम के बाद विषम शब्द पड़ रहा है फिर भी लय बाधित है।
(2) 1-4 और 5-8 मात्रा पर पूरित जगण शब्द नहीं आ सकता।
(3) अठकल का अंत गुरु या दो लघु से होना आवश्यक है।

जगण प्रयोग:-
(1) चौकल की प्रथम और अठकल की प्रथम और पंचम मात्रा से पूरित जगण शब्द प्रारम्भ नहीं हो सकता।
(2) चौकल की द्वितीय मात्रा से जगण शब्द के प्रारम्भ होने का प्रश्न ही नहीं है क्योंकि प्रथम मात्रा पर शब्द का समाप्त होना वर्जित है।
(3) चौकल की तृतीय और चतुर्थ मात्रा से जगण शब्द प्रारम्भ हो सकता है।

किसी भी गंभीर सृजक का चौपाई पर अधिकार होना अत्यंत आवश्यक है। आल्हा, ताटंक, लावणी, सार, सरसी इत्यादि प्रमुख छन्दों का आधार चौपाई ही है क्योंकि प्रथम यति की 16 मात्रा चौपाई ही है।

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
16-03-19

Thursday, March 14, 2019

हरिगीतिका छंद "भैया दूज"

है मास कार्तिक दूज है तिथि, मग्न बहनें चाव से।
भाई बहन का पर्व प्यारा, वे मनायें भाव से।
फूली समातीं नहिं बहन सब, पाँव भू पर नहिं पड़ें।
लटकन लगायें घर सजायें, द्वार पर तोरण जड़ें।

कर याद वीरा को बहन सब, नाच गायें झूम के।
स्वादिष्ट भोजन फिर पका के, बाट जोहें घूम के।
करतीं तिलक लेतीं बलैयाँ, अंक में भर लें कभी।
बहनें खिलातीं भ्रात खाते, भेंट फिर देते सभी।

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
31-10-2016

गीतिका छंद "चातक पक्षी"

मास सावन की छटा सारी दिशा में छा गयी।
मेघ छाये हैं गगन में यह धरा हर्षित भयी।।
देख मेघों को सभी चातक विहग उल्लास में।
बूँद पाने स्वाति की पक्षी हृदय हैं आस में।।

पूर्ण दिन किल्लोल करते संग जोड़े के रहे।
भोर की करता प्रतीक्षा रात भर बिछुड़न सहे।।
'पी कहाँ' है 'पी कहाँ' की तान में ये बोलता।
जो विरह से हैं व्यथित उनका हृदय सुन डोलता।।

नीर बरखा बूँद का सीधे ग्रहण मुख में करे।
धुन बड़ी पक्की विहग की अन्यथा प्यासा मरे।।
एक टक नभ नीड़ से लख धैर्य धारण कर रखे।
खोल के मुख पूर्ण अपना बाट बरखा की लखे।।

धैर्य की प्रतिमूर्ति है यह सीख इससे लें सभी।
प्रीत जिससे है लगी छाँड़ै नहीं उसको कभी।।
चातकों सी धार धीरज दुख धरा के हम हरें।
लक्ष्य पाने की प्रतीक्षा पूर्ण निष्ठा से करें।।

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
08-07-2017

गीतिका/हरिगीतिका छंद विधान

गीतिका:- ये चार पदों का एक सम-मात्रिक छंद है. प्रति पंक्ति 26 मात्राएँ होती हैं तथा प्रत्येक पद 14-12 अथवा 12-14 मात्राओं की यति के अनुसार होता है.
इसका वर्ण विन्यास निम्न है।
2122  2122  2122  212

चूँकि गीतिका एक मात्रिक छंद है अतः गुरु को आवश्यकतानुसार 2 लघु किया जा सकता है परंतु 3 री, 10 वीं, 17 वीं और 24 वीं मात्रा सदैव लघु होगी। अंत सदैव गुरु वर्ण से होता है। इसे 2 लघु नहीं किया जा सकता।
चारों पद समतुकांत या 2-2 पद समतुकांत।

हरिगीतिका:- इसकी भी लय गीतिका वाली ही है तथा गीतिका के प्राम्भ में गुरु वर्ण बढ़ा देने से हरिगीतिका हो जाती है। यह चार पदों का एक सम-मात्रिक छंद है. प्रति पंक्ति 28 मात्राएँ होती हैं तथा यति 16 और 12 मात्राओं पर होती है। यति 14 और 14 मात्रा पर भी रखी जा सकती है। गुप्त जी का उदाहरण देखें:-

मानस भवन में आर्यजन जिसकी उतारें आरती।
भगवान ! भारतवर्ष में गूँजे हमारी भारती।

गीतिका में एक गुरु बढ़ा देने से इसका वर्ण विन्यास निम्न प्रकार होता है।
2212  2212  2212  2212

चूँकि हरिगीतिका एक मात्रिक छंद है अतः गुरु को आवश्यकतानुसार 2 लघु किया जा सकता है परंतु 5 वीं, 12 वीं, 19 वीं, 26 वीं मात्रा सदैव लघु होगी। अंत सदैव गुरु वर्ण से होता है। इसे 2 लघु नहीं किया जा सकता।
चारों पद समतुकांत या 2-2 पद समतुकांत।

इस छंद की धुन  "श्री रामचन्द्र कृपालु भज मन" वाली है।

एक उदाहरण:-
मधुमास सावन की छटा का, आज भू पर जोर है।
मनमोद हरियाली धरा पर, छा गयी चहुँ ओर है।
जब से लगा सावन सुहाना, प्राणियों में चाव है।
चातक पपीहा मोर सब में, हर्ष का ही भाव है।।
(बासुदेव अग्रवाल रचित)

Tuesday, March 12, 2019

ग़ज़ल (सारे जहाँ से गन्दा)

बह्र:- (221  2122)*2

सारे जहाँ से गंदा, पाकीस्तां तुम्हारा,
आतंकियों का गढ़ ये, है झूठ का पिटारा।

औकात क्या है तेरी, फिर भी न बाज़ आते,
तू भूत जिसको लातें, खानी सदा गवारा।

किस बात की अकड़ है, किस जोर पे तू नाचे,
रह जाएगा अकेला, कर लेगा जग किनारा।

तुझसा नमूना जग में, मिलना बड़ा है मुश्किल,
अब तुझ पे हँस रहा है, दुनिया का हर सितारा।

सद्दाम से दिये चल, हिटलर से टिक न पाये,
किस खेत की तू मूली, जाएगा यूँ ही मारा।

सदियों से था, वो अब भी, आगे वही रहेगा,
तेरा तो बाप बच्चे, हिन्दोस्तां हमारा।

हर हिन्द वासी कहता, नापाक पाक सुनले,
तुझको बचा सके बस, अब हिन्द का सहारा।

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
5-2-18

ग़ज़ल (ये हुस्न मौत का तो)

बह्र:- (221  2122)*2

ये हुस्न मौत का तो सामान हो न जाए,
मेरी ये जिंदगी अब तूफान हो न जाए।

बातें जुदाई की तू मुझसे न यूँ किया कर,
सुनके जिन्हें मेरा जी हलकान हो न जाए।

तूने दिया जफ़ा से हरदम वफ़ा का बदला,
इस सिलसिले में उल्फ़त कुर्बान हो न जाए।

वापस वो जब से आई मन्नत ये तब से मेरी,
तकरार फिर से अब इस दौरान हो न जाए।

तब तक दिखे न हमको सब में हमारी सूरत,
जब तक जगत ये पूरा भगवान हो न जाए।

मतलब परस्त इंसां को रब न दे तु इतना,
अंधा वो जिससे हो कर हैवान हो न जाए।

ये इल्तिज़ा 'नमन' की उससे कभी किसी का,
नुक्सान हो न जाए, अपमान हो न जाए।

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
15-1-18

ग़ज़ल (गर्दिश में सितारे हों जिसके)

बह्र:- (221  1222  22)*2

गर्दिश में सितारे हों जिसके, दुनिया को भला कब
भाता है,
वो लाख पटक ले सर अपना, लोगों से सज़ा ही पाता है।

मुफ़लिस का भी जीना क्या जीना, जो घूँट लहू के पी जीए,
जितना वो झुके जग के आगे, उतनी ही वो ठोकर खाता है।

ऐ दर्द चला जा और कहीं, इस दिल को भी थोड़ी राहत हो,
क्यों उठ के गरीबों के दर से, मुझको ही सदा तड़पाता है।

इतना भी न अच्छा बहशीपन, दौलत के नशे में पागल सुन,
जो है न कभी टिकनेवाली, उस चीज़ पे क्यों इतराता है।

भेजा था बना जिसको रहबर, पर पेश वो रहज़न सा आया,
अब कैसे यकीं उस पर कर लें, जो रंग बदल फिर आता है।

माना कि जहाँ नायाब खुदा, कारीगरी हर इसमें तेरी,
पर दिल को मनाएँ कैसे हम, रह कर जो यहाँ घबराता है।

ये शौक़ 'नमन' ने पाला है, दुख दर्द पिरौता ग़ज़लों में,
बेदर्द जमाने पर हँसता, मज़लूम पे आँसू लाता है।

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
12-03-18

ग़ज़ल (भाषा बड़ी है प्यारी)

बह्र:- (22  122  22)*2

भाषा बड़ी है प्यारी, जग में अनोखी हिन्दी,
चन्दा के जैसे  सोहे, नभ में निराली हिन्दी।

पहचान हमको देती, सबसे अलग ये जग में,
मीठी  जगत में सबसे, रस की पिटारी हिन्दी।

हर श्वास में ये बसती, हर आह से ये निकले,
बन  के  लहू ये बहती, रग में ये प्यारी हिन्दी।

इस देश में है भाषा, मजहब अनेकों प्रचलित,
धुन एकता की  डाले, सब में सुहानी हिन्दी।

शोभा हमारी इससे, करते 'नमन' हम इसको,
सबसे रहे ये ऊँची,  मन में  हमारी हिन्दी।

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
14-09-2016

Friday, March 8, 2019

कामरूप छंद "आज की नारी"

नारी न अबला, पूर्ण सबला, हो गई है आज।
वह भव्यता से, दक्षता से, सारती हर काज।।
हर क्षेत्र में रत, कर्म में नत, आज की ये नार।
शासन सँभाले, नभ खँगाले,सामती घर-बार।।

होती न विचलित, वो समर्पित, आत्मबल से चूर।
अवरोध जग के, कंट मग के, सब करे वह दूर।।
धर आस मन में, स्फूर्ति तन में, धैर्य के वह साथ।
आगे बढ़े नित, चित्त हर्षित, रख उठा कर माथ।।

परिचारिका बन, जीत ले मन, कर सके हर काम।
जग से जुड़ी वह, ताप को सह, अरु कमाये नाम।।
जो भी करे नर, वह सके कर, सद्गुणों की खान।
सच्ची सहायक, मोद दायक, पूर्ण निष्ठावान।।

पीड़ित रही हो, दुख सही हो, खो सदा अधिकार।
हरदम दिया है, सब किया है, फिर बनी क्यों भार।।
कहता 'नमन' यह, क्यों दमन सह, अब रहें सब नार।
शोषण तुम्हारा, शर्मशारा, ये हमारी हार।।

बासुदेव अग्रवाल 'नमन',
तिनसुकिया
08-10-17

कामरूप/वैताल छंद *विधान*

26 मात्रा का सम मात्रिक छंद।
यति 9 मात्रा//7 मात्रा// 10 मात्रा
(1) प्रथम यति- प्रारम्भ गुरु गुरु या गुरु की जगह 2 लघु से आवश्यक।
(2) द्वितीय यति- प्रारम्भ 21 से आवश्यक।
(3) तृतीय यति- प्रारम्भ 21 या 12 से आवश्यक साथ ही अंत ताल यानि 21 से आवश्यक।
22122,  2122,  2122  21 (अत्युत्तम)
चार चरण, दो दो चरण समतुकांत या चारों चरण समतुकांत।
आंतरिक यति भी समतुकांत हो तो और अच्छा परन्तु जरूरी भी नहीं।

उड़ियाना छंद "विरह"

क्यों री तू थमत नहीं, विरह की मथनिया।
मथत रही बार बार, हॄदय की मटकिया।।
सपने में नैन मिला, हँसत है सजनिया।
छलकावत जाय रही, नेह की गगरिया।।

गरज गरज बरस रही, श्यामली बदरिया।
झनकारै हृदय-तार, कड़क के बिजुरिया।।
ऐसे में कुहुक सुना, वैरन कोयलिया।
विकल करे कबहु मिले, सजनी दुलहनिया।।

तेरे बिन शुष्क हुई, जीवन की बगिया।
बेसुर में बाज रही, बैन की मुरलिया।।
सुनने को विकल श्रवण, तेरी पायलिया।
तेरी ही बाट लखे, सूनी ये कुटिया।।

विरहा की आग जले, कटत न अब रतिया।
रह रह मन उठत हूक, धड़कत है छतिया।।
'नमन' तुझे भेज रहा, अँसुवन लिख पतिया।
बेगी अब आय मिलो, सुन मन की बतिया।।
***********************
उड़ियाना छंद *विधान*

22 मात्रा का सम मात्रिक छंद। 12,10 यति। अंत में केवल 1 गुरु; यति से पहले त्रिकल आवश्यक।मात्रा बाँट :- 6+3+3, 6+1+1+2
चार चरण, दो दो चरण समतुकांत या चारों चरण समतुकांत।
====================

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
14-03-18

उल्लाला छंद "माँ और उसका लाल"

एक भिखारिन शीत में, बस्ते में लिपटाय के।
अंक लगाये लाल को, बैठी है ठिठुराय के।।

ममता में माँ मग्न है, सोया उसका लाल है।
माँ के आँचल से लिपट, बेटा मालामाल है।।

चिथड़ों में कुछ काटते, रक्त जमाती रात को।
या फिर ताप अलाव को, गर्माहट दे गात को।।

कहीं रिक्त हैं कोठियाँ, सर पे कहीं न छात है।
नभ के नीचे ही कटे, ग्रीष्म, शीत, बरसात है।।

जीवन अपने मार्ग को, ढूँढे हर हालात में।
जीने की ही लालसा, स्फूर्ति नई दे गात में।।

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
15-12-16

उल्लाला छंद "किसान"

हल किसान का नहिं रुके, मौसम का जो रूप हो।
आँधी हो तूफान हो, चाहे पड़ती धूप हो।।

भाग्य कृषक का है टिका, कर्जा मौसम पर सदा।
जीवन भर ही वो रहे, भार तले इनके लदा।।

बहा स्वेद को रात दिन, घोर परिश्रम वो करे।
फाके में खुद रह सदा, पेट कृषक जग का भरे।।

लोगों को जो अन्न दे, वही भूख से ग्रस्त है।
करे आत्महत्या कृषक, हिम्मत उसकी पस्त है।।

रहे कृषक खुशहाल जब, करे देश उन्नति तभी।
है किसान तुझको 'नमन', ऋणी तुम्हारे हैं सभी।।

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
23-11-2016

उल्लाला छंद *विधान*

उल्लाला सम मात्रिक छन्द है। स्वतंत्र रूप से यह छंद कम प्रचलन में है, परन्तु छप्पय के 6 चरणों में प्रथम 4 चरण रोला छंद के तथा अंतिम 2 चरण उल्लाला के होते हैं। इसके दो रूप प्रचलित हैं। 
(1) प्रत्येक चरण में 13-13 मात्राओं के हिसाब से कुल 26 मात्रायें।
(2) तथा 15-13 के हिसाब से कुल 28 मात्रायें।इस में शुरू में 2 मात्रायें जोड़ी जाती है, बाकी सब कुछ प्रथम रूप की तरह ही है। तथापि 13-13 मात्राओं वाला छन्द ही विशेष प्रचलन में है। इस प्रकार दोहा के चार विषम चरणों से उल्लाला छन्द बनता है। इस छंद में 11वीं मात्रा लघु ही होती है।15 मात्राओं वाले उल्लाला छन्द में 13 वीं मात्रा लघु होती है।
तुकांतता के दो रूप प्रचलित हैं। 
(1)सम+सम चरणों की तुकांतता। 
(2)दूसरा हर पंक्ति में विषम+ सम चरण की तुकांतता। 
शेष नियम दोहा के समान हैं। इसका मात्रा विभाजन 8+3(ताल)+2 है। अंत में एक गुरु या 2 लघु का विधान है।

गिरिधारी छंद "दृढ़ संकल्प"

खुद पे रख यदि विश्वास चलो।
जग को जिस विध चाहो बदलो।।
निज पे अटल भरोसा जिसका।
यश गायन जग में हो उसका।।

मत राख जगत पे आस कभी।
फिर देख बनत हैं काम सभी।।
जग-आश्रय कब स्थायी रहता।
डिगता जब मन पीड़ा सहता।।

मन-चाह गगन के छोर छुए।
नहिं पूर्ण हृदय की आस हुए।।
मन कार्य करन में नाँहि लगे।
अरु कर्म-विरति के भाव जगे।।

हितकारक निज का संबल है।
पर-आश्रय नित ही दुर्बल है।।
मन में दृढ़ यदि संकल्प रहे।
सब वैभव सुख की धार बहे।।
================
लक्षण छंद:-

"सनयास" अगर तू सूत्र रखे।
तब छंदस 'गिरिधारी' हरखे।।

"सनयास" = सगण, नगण, यगण, सगण
112  111  122  112 = 12 वर्ण
******************

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
8-1-17

कलाधर छंद "योग साधना"

दिव्य ज्ञान योग का हिरण्यगर्भ से प्रदत्त,
ये सनातनी परंपरा जिसे निभाइए।
आर्ष-देन ये महान जो रखे शरीर स्वस्थ्य,
धार देह वीर्यवान और तुष्ट राखिए।
शुद्ध भावना व ओजवान पा विचार आप,
चित्त की मलीनता व दीनता हटाइए।
नित्य-नेम का बना विशिष्ट एक अंग योग।
सृष्टि की विभूतियाँ समस्त आप पाइए।।

मोह लोभ काम क्रोध वासना समस्त त्याग,
पाप भोग को मनोव्यथा बना निकालिए।
ज्ञान ध्यान दान को सजाय रोम रोम मध्य,
ध्यान ध्येय पे रखें तटस्थ हो बिराजिए।।
ईश-भक्ति चित्त राख दृष्टि भोंह मध्य साध, 
पूर्ण निष्ठ ओम जाप मौन धार कीजिए।
वृत्तियाँ समस्त छोड़ चित्त को अधीन राख,
योग नित्य धार रोग-त्रास को मिटाइए।।
===================
लक्षण छंद:-

पाँच बार "राज" पे "गुरो" 'कलाधरं' सुछंद।
षोडशं व पक्ष पे विराम आप राखिए।।  ।।

पाँच बार "राज" पे "गुरो" = (रगण+जगण)*5 + गुरु। (212  121)*5+2
यानि गुरु लघु की 15 आवृत्ति के बाद गुरु यानि
21x15 + 2 तथा 16 और पक्ष = 15 पर यति।
यह विशुद्ध घनाक्षरी है अतः कलाधर घनाक्षरी भी कही जाती है।
************************

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
27-12-16