Thursday, March 12, 2020

मुक्तक (आतंक)

आओ करें प्रण और अब आतंक को सहना नहीं,
अब मौन ज्यादा और हम सब को कभी रहना नहीं,
आतंक में डर डर के जीना भी भला क्या ज़िंदगी,
अब कर दिखाना कुछ हमें बस सिर्फ कुछ कहना नहीं।

(2212×4)
*********

किस अभागी शाख का लो एक पत्ता झर गया फिर,
आसमां से एक तारा टूट कर के है गिरा फिर,
सरहदों के सैनिकों के खून की कीमत भला क्या,
वेदी पर आतंक की ये वीर का मस्तक चढ़ा फिर।

(2122*4)
***********

निशा आतंक की छायी गगन पर देश के भारी।
मरे शिव भक्त क्यों हैं बंद तेरे नेत्र त्रिपुरारी।
जो दहशतगर्द पनपे हैं किया दूभर यहाँ जीना।
मचा तांडव करो उनका धरा से नाश भंडारी।।

(1222×4)
*********


बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
11-08-18

No comments:

Post a Comment