Wednesday, March 4, 2020

ग़ज़ल ( जीभ दिखा कर)

2*15

जीभ दिखा कर यारों को ललचाना वो भी क्या दिन थे,
उनसे फिर मन की बातें मनवाना वो भी क्या दिन थे।

साथ खेलना बात बात में झगड़ा भी होता रहता,
पल भर कुट्टी फिर यारी हो जाना वो भी क्या दिन थे।

डींग हाँकने और खेलने में जो माहिर वो मुखिया,
ऊँच नीच का भेद न आड़े आना वो भी क्या दिन थे।

नहीं कमाने की तब चिंता कुछ था नहीं गमाने को,
खेल खेल में पढ़ना, सोना, खाना वो भी क्या दिन थे।

'नमन' मुसीबत की घड़ियों में याद करे नटखट बचपन,
हर आफ़त से बिना फ़िक़्र टकराना वो भी क्या दिन थे।

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
14-09-18

No comments:

Post a Comment