Sunday, February 16, 2020

दोहा छंद (गिल्ली डंडा)

गिल्ली डंडा खेलते, बच्चे धुन में मस्त।
जग की चिंता है नहीं, होते कभी न पस्त।।

भेद नहीं है जात का, भेद न करता रंग।
ऊँच नीच मन में नहीं, बच्चे खेले संग।।

आस पास को भूल के, क्रीड़ा में तल्लीन।
बड़ा नहीं कोई यहाँ, ना ही कोई हीन।।

छोड़ मशीनी जिंदगी, बच्चे सबके साथ।
हँसते गाते खेलते, डाल गले में हाथ।।

खुले खेत फैले यहाँ, नील गगन की छाँव।
मस्ती में बालक जहाँ, खेलें नंगे पाँव।।

नहीं प्रदूषण आग है, शहरों का ना शोर।
गाँवों का वातावरण, कर दे भाव-विभोर।।

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
19-11-2016

No comments:

Post a Comment