Friday, March 8, 2019

कामरूप/वैताल छंद *विधान*

26 मात्रा का सम मात्रिक छंद।
यति 9 मात्रा//7 मात्रा// 10 मात्रा
(1) प्रथम यति- प्रारम्भ गुरु गुरु या गुरु की जगह 2 लघु से आवश्यक।
(2) द्वितीय यति- प्रारम्भ 21 से आवश्यक।
(3) तृतीय यति- प्रारम्भ 21 या 12 से आवश्यक साथ ही अंत ताल यानि 21 से आवश्यक।
22122,  2122,  2122  21 (अत्युत्तम)
चार चरण, दो दो चरण समतुकांत या चारों चरण समतुकांत।
आंतरिक यति भी समतुकांत हो तो और अच्छा परन्तु जरूरी भी नहीं।

No comments:

Post a Comment