Wednesday, December 4, 2019

ग़ज़ल (चढ़ी है एक धुन मन में)

नारी शक्ति को समर्पित मुसलसल ग़ज़ल।

बह्र:- 1222   1222   1222   1222

चढ़ी है एक धुन मन में पढ़ेंगे जो भी हो जाए,
बड़े अब इस जहाँ में हम बनेंगे जो भी हो जाए।

कोई कमजोर मत समझो नहीं हम कम किसी से हैं,
सफलता की बुलन्दी पे चढ़ेंगे जो भी हो जाए।

हमारे दरमियाँ जो भेद कुदरत का सुनो मर्दों,
बराबर उसको करने में लगेंगे जो भी हो जाए।

हिक़ारत से नहीं देखे हमें दुनिया समझ ले अब,
नहीं हक जो मिला लेके रहेंगे जो भी हो जाए।

जमीं हो आसमां चाहे समंदर हो या पर्वत हो,
मिला कदमों को तुम से हम चलेंगे जो भी हो जाए।

भरेंगे फौज को हम भी चलेंगे संग सैना के,
वतन के वास्ते हम भी लड़ेंगे जो भी हो जाए।

हिमालय से इरादे हैं अडिग विश्वास वालीं हम,
'नमन' हम पूर्ण मन्सूबे करेंगे जो भी हो जाए।

बासुदेव अग्रवाल 'नमन,
तिनसुकिया
17-10-2016

No comments:

Post a Comment