Monday, December 9, 2019

32 मात्रिक छंद "अनुत्तरित प्रश्न"

जो भी विषय रखो तुम आगे, प्रश्न सभी के मन में मेरे।
प्रश्न अधूरे रह जाते हैं, उत्तर थोड़े प्रश्न घनेरे।।
रह रह करके प्रश्न अनेकों, मन में हरदम आते रहते।
नहीं सूझते उत्तर उनके, बनता नहीं किसी से कहते।।

झूठ, कपट ले कर के कोई, जग में जन्म नहीं लेता है।
दिया राम का सब कुछ तो फिर, राम यही क्या सब देता है?
दूर सदा हम दुख से भागें, रहना सुख में हरदम चाहें।
हत्या कर जीवों की फिर क्यों, लेते उनकी दारुण आहें?

'साँच बरोबर तप' को हम सब, बचपन से ही रटते आये।
बात बात में क्यों फिर हमको, झूठ बोलना निशदिन भाये?
ओरों से अपमानित हम हों, घूँट लहू के आये पीते।
अबलों, दुखियों की फिर हम क्यों, रोज उपेक्षा करके जीते?

सन्तानों से हम सब चाहें, आज्ञा सब हमरी वे माने।
मात पिता बूढ़े जब होते, बोझ समझ क्यों देते ताने?
मान मिले हमको सब से ही, चाहत मन में सदा रही है।
करते रहें निरादर सबका, क्या हमरी ये नीत सही है?

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिनसुकिया
12-11-16

No comments:

Post a Comment